Loading...
Image
Image
View Back Cover

मानव तस्करी से संघर्ष

नीति और कानून में कमियां

  • वीरेन्द्र मिश्रा - सचिव, केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा), महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार

यह पुस्तक "तस्करी" शब्द को स्पष्ट और समझने में अधिक आसान बनाती है, ताकि इसकी प्रवृत्ति, आयामों तथा नीति और कानून में कमियों को समझने में मदद मिले और इन कमियों को दूर करने में आसानी हो।

मानव तस्करी से संघर्ष, मानव तस्करी के विषय पर नए सिरे से परिचर्चा आरंभ करने प्रयोजन से लिखी गई है, जो इस अंतरराष्ट्रीय अपराध पर अंकुश लगाने के लिए कुछ बातों की अनुशंसा भी करती है। इस समस्या के प्रभावपूर्ण तरीके से समाधान में मदद करने के लिए, यह पुस्तक इस अपराध के विभिन्न आयामों का अन्वेषण करने के साथ-साथ इसका वर्गीकरण भी करती है। यह सामाजिक एवं आपराधिक न्याय प्रणालियों की समेकित अंतःक्रिया को पहचानने का एक नया दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है, तथा मानव तस्करी से संघर्ष के लिए सामाजिक-आपराधिक कानूनों के प्रगतिशील विकास एवं बहुल-अभिकरण दृष्टिकोण की सार्वभौमिक आवश्यकता पर प्रकाश डालती है। ब्रूट म्यूट सिद्धांत के माध्यम से यह सूक्ष्म एवं वृहत स्तर पर शासन व्यवस्था का विवरण प्रस्तुत करती है, साथ ही कई दृष्टांतों एवं व्यष्टि अध्ययनों की मदद से इस समस्या के वैश्विक परिदृश्य को हमारे समक्ष प्रस्तुत करती है।

  • प्रस्तावना
  • आभार
  • मानव तस्करी की परिभाषा का पुनरवलोकन
  • मानव तस्करी के विरुद्ध संघर्ष संबंधी विभिन्न दृष्टिकोण
  • मानव तस्करी के आयामों का विस्तारण

भाग अ: व्यावसायिक यौन शोषण

भाग ब: श्रम तस्करी एवं अन्य आयाम

  • कारण और प्रभाव की गतिशीलता : सामाजिक न्याय प्रणाली हेतु चुनौती
  • कानून के प्रवर्तन में खामियाँ: आपराधिक न्याय प्रणाली के समक्ष चुनौती
  • विभिन्न एजेंसियों के साथ कार्य का तरीका एवं भागीदारी
  • निरंकुश न्याय : ब्रूट म्यूट सिद्धान्त
  • सामाजिक-आपराधिक विधान : आपराधिक न्याय प्रणाली का एक नया आयाम
  • नीतिपरक न्याय की प्रतीक्षा : बेड़िया समुदाय एवं अमेरिका के मूल निवासियों का व्यष्टि अध्ययन
  • भविष्य की राह : संस्तुतियाँ
वीरेन्द्र मिश्रा

वीरेन्द्र मिश्रा, केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा), महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार, में सचिव के पद पर कार्यरत हैं। इससे पूर्व वह मध्य प्रदेश पुलिस में सहायक महानिरीक्षक (सीआईडी) के पद पर कार्यरत थे। वर्ष 2012-2013 के दौरान उन्हें मानव तस्करी के विषय पर प्रतिष्ठित हुबर्ट हम्फ्रे फैलोशिप (फुलब्राइट स्कॉलरशिप के तहत) से सम्मानित ... अधिक पढ़ें

Also available in:

PURCHASING OPTIONS

For shipping anywhere outside India
write to customerservicebooks@sagepub.in